समय रूपी अमूल्य उपहार का एक क्षण भी आलस्य और प्रमाद में नष्ट न करें।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

ज्ञान समुद्र की भाँति अनन्त और अगाध है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

भाग्य बदलने की एकमात्र शर्त है- उन्नति के लिए सच्चा और निरन्तर संघर्ष।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

सौन्दर्य फैशन में नहीं, वरन् हृदय के आदर्श गुणों में है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

Merging one’s happiness into that of others is called ‘love’


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

भगवान् पर विश्वास करने का अर्थ है- अपने पर, अपने पुरुषार्थ पर और अपने उज्ज्वल भविष्य पर विश्वास करना।



By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

Anger is a kind of madness which destroys good thoughts.


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

दूसरों के दुःख- दर्द को अपना दुःख- दर्द समझो।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

जिनके भीतर- बाहर एक ही बात है, वही निष्कपट व्यक्ति धन्य है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

महापुरुष किसी जाति या राष्ट्र के नहीं, बल्कि समस्त विश्व के।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

आज का बालक ही कल का नागरिक है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

It is through self-purification and self-introspection that a soul attains God-hood.


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email