समय रूपी अमूल्य उपहार का एक क्षण भी आलस्य और प्रमाद में नष्ट न करें।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

Keep smiling always in all conditions. Be fearless and free from anxiety. Go on doing your duties and be happy.


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

The test of anybody's greatness is what he thinks and does for one who is lower than him.


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

आलस्य में समय न गँवाए


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

मनुष्य के मित्र और शत्रु उसके अपने ही भाव, विचार और दृष्टिकोण होता है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

कामना करने वाले कभी भक्त नहीं हो सकते। भक्त शब्द के साथ में भगवान् की इच्छाएँ पूरी करने की बात जुडी़ रहती है।



By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

जिससे हम कुछ भी नहीं ले सकते, ऐसा संसार में कोई नहीं है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

ಸಂಪತ್ತು ಕಳೆದುಹೋದಲ್ಲಿ, ಎನ್ನನ್ನು ಕಳೆದುಕೊಂಡಿಲ್ಲ ಎಂದು ತಿಳಿಯಿರಿ; ಸ್ವಾಸ್ಥ್ಯವನ್ನು ಕಳೆದುಕೊಂಡಲ್ಲಿ ಎನ್ನನ್ನೋ ಸ್ವಲ್ಪ ಕಳೆದು ಕೊಂಡಿರಿವಿರಿ ಎಂದು ತಿಳಿಯಿರಿ ; ನೀವು ಸಚ್ಛಾರಿತ್ರ್ಯಾ, ನೈತಿಕತೆಯನ್ನು ಕಳಿದುಕೊಂಡಲ್ಲಿ  ಸರ್ವಸ್ವನ್ನು ಕಳೆದುಕೊಂಡಿರಿ ಎಂದು ತಿಳಿಯಿರಿ.


ಪಂ. ಶ್ರೀರಾಮ ಶರ್ಮಾ ಆಚಾರ್ಯ


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

आदर्शों ने सदैव जीवन में उतारने के बाद फायदा ही पहुँचाया है, नुकसान किसी का नहीं किया।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

कुकर्मी से बढ़कर अभागा कोई नहीं है; क्योंकि विपत्ति में उसका कोई साथी नहीं होता है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

दुनिया में आलस्य को पोषण देने जैसा दूसरा भयंकर पाप नहीं है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

मनुष्य मात्र का यह कर्तव्य है कि वह परम आध्यात्मिक शक्ति के रूप में माँ की प्रतिष्ठा प्रदान करें, प्रत्येक नारी में भाव वत्सला नारी का रूप देखें।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email