समय रूपी अमूल्य उपहार का एक क्षण भी आलस्य और प्रमाद में नष्ट न करें।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

जिनके भीतर- बाहर एक ही बात है, वही निष्कपट व्यक्ति धन्य है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

ईश्वर का अर्थ शासक होता है, जो दण्ड और पुरस्कार दोनों दे सकता है। अतः उसकी व्यवस्था के प्रति सतर्क एवं सावधान रहें।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

खोया हुआ धन पाया जा सकता है, पर खोया हुआ समय नहीं।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

Do not do good with a business like motive. It gives  satisfaction only if done as a duty. Good done with the hope of getting good in return can give disappointment and vexation.


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

 సమయం సోమారితనం వల్ల తగ్గి, కార్య నిమగ్నత వల్ల పెరుగుతుంది.

By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

अपने जीवन से प्यार करो तो वह तुम्हें प्यार करेगा।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

संसार में सबसे सच्चा एवं निःस्वार्थ प्रेम माता का होता है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

आलस्य से आराम मिल सकता है, पर यह आराम बड़ा महँगा पड़ता है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

ನಿನ್ನ ಮೌಲ್ಯವನ್ನುಅರ್ಥಮಾಡಿಕೋ ಮತ್ತು ಈ ಜಗತ್ತಿನಲ್ಲಿ ಎಲ್ಲರಿಗಿಂತ ಮಹತ್ವಪೂರ್ಣ ವ್ಯಕ್ತಿ ನೀನಾಗಿರುವಿ ಎಂಬ ವಿಶ್ವಾಸವನ್ನಿಡು.


ಪಂ. ಶ್ರೀರಾಮ ಶರ್ಮಾ ಆಚಾರ್ಯ






By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

मनुष्य उपाधियों से नहीं, श्रेष्ठ कार्यों से सज्जन बनता है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

प्यार और सहकार से भरा- पूरा परिवार ही इस धरती का स्वर्ग होता है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email