• सफल सार्थक जीवन
  • प्रगति की आकांक्षा
  • सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध
  • बाल निर्माण
  • मानवीय गरिमा
  • गायत्री और यज्ञ
  • भारतीय संस्कृति
  • धर्म और विज्ञान
  • समय का सदुपयोग
  • स्वस्थ जीवन
  • आध्यात्मिक चिंतन धारा
  • भाव संवेदना
  • शांतिकुंज -21 वीं सदी की गंगोत्री
  • कर्मफल और ईश्वर
  • स्वाध्याय और सदविचार
  • प्रेरक विचार
  • समाज निर्माण
  • युग निर्माण योजना
  • वेदो से दिव्य प्रेरणाये
  • शिक्षा और विद्या
  • अपने कर्म और कर्मफल को ईश्वर पर छोड़ देने से निराशा, चिन्ता, असंतोष का कोई स्थान नहीं रह जाता।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    कर्मयोग ही संसार में ऊँचा उठने का श्रेष्ठ साधन है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    आज का नया दिवस हमारे लिए एक अनमोल अवसर है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    गायत्री माता का आँचल श्रद्धापूर्वक पकड़ने वाला जीवन में कभी निराश नहीं रहता।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    अपने दोषों की ओर से अनभिज्ञ रहने से बढ़कर प्रमाद इस संसार में और कोई दूसरा नहीं हो सकता।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जो शिक्षा मनुष्य को धूर्त, परावलम्बी और अहंकारी बनाती हो वह अशिक्षा से भी बुरी है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    धर्म किन्हीं कर्मकाण्डों को नहीं, आत्मोत्कर्ष तथा लोकहित के प्रति अपने कर्तव्यों के पालन को कहते हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    शिक्षक नई पीढ़ी के निर्माता होते हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    भावना से कर्तव्य बड़ा होता है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    आत्मा के सन्तोष का ही दूसरा नाम स्वर्ग है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जीवन एक कर्तव्य है, जिसे पूरी रह निभाया जाए।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ईश्वर के प्रति समर्पण, विसर्जन, विलय का तात्पर्य है- उत्कृष्टता के साथ अपने आपको सघन रूप से जोड़ लेना |


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email