• सफल सार्थक जीवन
  • प्रगति की आकांक्षा
  • सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध
  • बाल निर्माण
  • मानवीय गरिमा
  • गायत्री और यज्ञ
  • भारतीय संस्कृति
  • धर्म और विज्ञान
  • समय का सदुपयोग
  • स्वस्थ जीवन
  • आध्यात्मिक चिंतन धारा
  • भाव संवेदना
  • शांतिकुंज -21 वीं सदी की गंगोत्री
  • कर्मफल और ईश्वर
  • स्वाध्याय और सदविचार
  • प्रेरक विचार
  • समाज निर्माण
  • युग निर्माण योजना
  • वेदो से दिव्य प्रेरणाये
  • शिक्षा और विद्या
  • आत्मा के निवास मंदिर शरीर को अपनी बुरी आदतों से नष्ट भ्रष्ट करना पाप है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जो दूसरों के अवगुणों पर जीत पा लेता है, वह ‘वीर’ कहलाता है पर इससे भी अगली श्रेणी का ‘महावीर’ वह है जिसने अपने आप को जीत लिया।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    सुधा बीज बोने से पहले, कालकूट पीना होगा। पहिन मौत का मुकुट, विश्वहित मानव को जीना होगा ॥


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    व्यक्तित्व मान्यताओं, आदतों, इच्छाओं का समुच्चय मात्र है। वह इन्हीं तीनों के सहारे गढ़ा गया है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    प्रशंसा और प्रतिष्ठा वही सच्ची है, जो उत्कृष्ट कार्य करने के लिए प्राप्त हो।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    दो याद रखने योग्य हैं - एक कर्तव्य और दूसरा मरण।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    भगवान् जिसे प्यार करते हैं, उसे परमार्थ प्रयोजनों की पूर्ति के लिए स्फुरणा एवं साहसिकता प्रदान करते हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    मन का नियन्त्रण मनुष्य का एक आवश्यक कर्तव्य है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    धनवान् बनना इतना आवश्यक नहीं कि उसके लिए ईमान छोड़ दें।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    आस्तिकता का अर्थ है- ईश्वर को मानना। मानने का अर्थ है- उसका अनुयायी होना और अनुयायी होने का तात्पर्य है- उसके विचार, निर्देशों एवं आदर्श के अनुसार चलना।



    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ईश्वर उपासना की सर्वोपरि सब - रोगनाशक औषधि का आप नित्य सेवन करें।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    किसी बेईमान व्यक्ति का कोई सच्चा मित्र नहीं होता।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email