• सफल सार्थक जीवन
  • प्रगति की आकांक्षा
  • सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध
  • बाल निर्माण
  • मानवीय गरिमा
  • गायत्री और यज्ञ
  • भारतीय संस्कृति
  • धर्म और विज्ञान
  • समय का सदुपयोग
  • स्वस्थ जीवन
  • आध्यात्मिक चिंतन धारा
  • भाव संवेदना
  • शांतिकुंज -21 वीं सदी की गंगोत्री
  • कर्मफल और ईश्वर
  • स्वाध्याय और सदविचार
  • प्रेरक विचार
  • समाज निर्माण
  • युग निर्माण योजना
  • वेदो से दिव्य प्रेरणाये
  • शिक्षा और विद्या
  • शारीरिक गुलामी से बौद्धिक गुलामी भयंकर है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    अपव्यय स्थिरता और प्रगति का शत्रु है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    नारी का अपमान बर्बरता का प्रतीक है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    साधना का अर्थ है -  कठिनाइयों से संघर्ष करते हुए भी सत्प्रयास जारी रखना।

    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    असफलता केवल यह सिद्ध करती है कि सफलता का प्रयास पूरे मन से नहीं हुआ ।।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    हम बदलेंगे युग बदलेगा- हम सुधरेंगे- युग सुधरेगा।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    भगवान् का हो जाने का अर्थ है- स्वयं को उनके प्रति समर्पित कर देना, उनसे भिन्न इच्छाएँ न रखना।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    आत्मोन्नति से विमुख होकर मृगतृष्णा में भटकने की मूर्खता न करो।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    आज के बच्चे कल के राष्ट्र निर्माता हैं।



    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    परमात्मा जिसके जीवन में कोई विशेष अभ्युदय- अनुग्रह करना चाहता है, उसकी बहुत- सी सुविधाओं को समाप्त कर दिया करता है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ईश्वर को चापलूसी नहीं, श्रेष्ठ कार्य पसन्द है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    मनुष्य बने रहने का अर्थ है- आत्म भावना का परिष्कार।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email