• सफल सार्थक जीवन
  • प्रगति की आकांक्षा
  • सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध
  • बाल निर्माण
  • मानवीय गरिमा
  • गायत्री और यज्ञ
  • भारतीय संस्कृति
  • धर्म और विज्ञान
  • समय का सदुपयोग
  • स्वस्थ जीवन
  • आध्यात्मिक चिंतन धारा
  • भाव संवेदना
  • शांतिकुंज -21 वीं सदी की गंगोत्री
  • कर्मफल और ईश्वर
  • स्वाध्याय और सदविचार
  • प्रेरक विचार
  • समाज निर्माण
  • युग निर्माण योजना
  • वेदो से दिव्य प्रेरणाये
  • शिक्षा और विद्या
  • ईश्वर भक्ति का अर्थ है - आदर्शों के प्रति असीम प्यार। असीम का तात्पर्य है- इतना प्रबल कि उसे क्रियान्वित किये बिना रहा ही न जा सके।



    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    चरित्रवान् माता- पिता ही सुसंस्कृत सन्तान बनाते है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    कर्तव्यशील मनुष्य ही धार्मिक है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    दुष्टता का प्रतिरोध ईश्वरीय कार्य है। उसमें पाप नहीं, पुण्य ही है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    अध्यात्म का अर्थ है- अपने आपको सही करना।



    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    सज्जनता और मधुर व्यवहार मनुष्यता की पहली शर्त है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    दैवी तत्व का एकमात्र प्रतीक मातृत्व है। उसके प्रति उच्च कोटि की श्रद्धा रखे बिना देवत्व की पूजा एवं साधना नहीं हो सकती और इसके अभाव में पुरुष को देवत्व से वंचित रहना पड़ेगा।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ईर्ष्या से नहीं, अध्यवसाय से हम ऊँचे उठ सकते हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    सज्जनों की कोई भी साधना कठिनाइयों में से होकर निकलने पर ही पूर्ण होती है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    अच्छा देखो और प्रसन्न रहो का मन्त्र ही जपें और हृदयंगम करें।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    नम्रता ही सभ्यता का चिह्न है।



    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    सबसे बड़ी कोई सहायता है तो वह है कठिनाई के वक्त किसी की मदद करना।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email