• सफल सार्थक जीवन
  • प्रगति की आकांक्षा
  • सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध
  • बाल निर्माण
  • मानवीय गरिमा
  • गायत्री और यज्ञ
  • भारतीय संस्कृति
  • धर्म और विज्ञान
  • समय का सदुपयोग
  • स्वस्थ जीवन
  • आध्यात्मिक चिंतन धारा
  • भाव संवेदना
  • शांतिकुंज -21 वीं सदी की गंगोत्री
  • कर्मफल और ईश्वर
  • स्वाध्याय और सदविचार
  • प्रेरक विचार
  • समाज निर्माण
  • युग निर्माण योजना
  • वेदो से दिव्य प्रेरणाये
  • शिक्षा और विद्या
  • अपना अंतःकरण इतना निर्मल और पवित्र बनाओ कि उसमें ईश्वर का प्रकाश स्वयमेव झिलमिलाने लगे।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    गृहस्थ एक प्रत्यक्ष स्वर्ग है, इसी धरती पर है। घर में सत्प्रवृत्तियों की फसल बोकर उससे सब कुछ पाया जा सकता है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    विद्यालय राष्ट्र के जाग्रत् मन्दिर हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    यदि तुम प्रसन्न रहते हो, तो संसार का महान् उपकार करते हो।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    केवल ज्ञान ही एक ऐसा अक्षय तत्त्व है, जो कहीं भी, किसी अवस्था और किसी काल में भी मनुष्य का साथ नहीं छोड़ता।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    संसार में विद्या से बढ़कर कोई मित्र नहीं और अविद्या से बढ़कर कोई शत्रु नहीं ।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ईश्वर तेरी इच्छा पूर्ण हो जीवन का यही मूलमंत्र हो।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    देवत्व का संस्कार प्रदान करने वाली नारी, स्रष्टा की विशेष कृति एवं शक्तिस्वरूपा है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    कर्म को पोषण देने वाला ज्ञान ही वस्तुतः सच्चा ज्ञान है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    अपनी राह आप बनाएँ, ताकि सफलता के लक्ष्य तक पहुँचे, आसरा तकते रहने से तो निराशा ही हाथ लगती है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जो असंभव कार्य को सम्भव करके दिखाए, उसे ही ‘प्रतिभा’ कहते हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    गुण ही नारी का सच्चा आभूषण है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email