• सफल सार्थक जीवन
  • प्रगति की आकांक्षा
  • सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध
  • बाल निर्माण
  • मानवीय गरिमा
  • गायत्री और यज्ञ
  • भारतीय संस्कृति
  • धर्म और विज्ञान
  • समय का सदुपयोग
  • स्वस्थ जीवन
  • आध्यात्मिक चिंतन धारा
  • भाव संवेदना
  • शांतिकुंज -21 वीं सदी की गंगोत्री
  • कर्मफल और ईश्वर
  • स्वाध्याय और सदविचार
  • प्रेरक विचार
  • समाज निर्माण
  • युग निर्माण योजना
  • वेदो से दिव्य प्रेरणाये
  • शिक्षा और विद्या
  • आत्म- निर्माण ही युग निर्माण है।



    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    मात्र हवन, धूपबत्ती और जप की संख्या के नाम पर प्रसन्न होकर आदमी की मनोकामना पूरी कर दिया करें, ऐसे देवी- देवता दुनिया में कहीं नहीं है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    कर्म तो सभी करते हैं, पर जब वह सदुद्देश्यों के साथ जुड़ जाता है, तो योग बन जाता है।



    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    कठिनाइयाँ जब आती हैं तो कष्ट देती हैं, पर जब जाती है तो आत्म बल का ऐसा उत्तम पुरस्कार दे जाती हैं जो उन कष्टों दुखों की तुलना में हजारों गुना मूल्यवान होता है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    मनुष्य जन्म सरल है, पर मनुष्यता कठिन प्रयत्न करके कमानी पड़ती है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    अनुशासन का उल्लंघन न करें।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    महापुरुषों की विशिष्टताओं से अपरिचित रहना बालकपन का जीवन बिताना है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    नारी सम्मान सबका परम कर्तव्य है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    नारी का सम्मान जहाँ हैं, संस्कृति का उत्थान वहाँ है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    चरित्रवान् व्यक्ति ही सच्चे अर्थों में भगवद् भक्त हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जिन्दगी हँसते- खेलते जीने के लिए है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ध्यान का अर्थ मात्र एकाग्रता ही नहीं, श्रेष्ठ विचारों की तन्मयता भी है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email