• सफल सार्थक जीवन
  • प्रगति की आकांक्षा
  • सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध
  • बाल निर्माण
  • मानवीय गरिमा
  • गायत्री और यज्ञ
  • भारतीय संस्कृति
  • धर्म और विज्ञान
  • समय का सदुपयोग
  • स्वस्थ जीवन
  • आध्यात्मिक चिंतन धारा
  • भाव संवेदना
  • शांतिकुंज -21 वीं सदी की गंगोत्री
  • कर्मफल और ईश्वर
  • स्वाध्याय और सदविचार
  • प्रेरक विचार
  • समाज निर्माण
  • युग निर्माण योजना
  • वेदो से दिव्य प्रेरणाये
  • शिक्षा और विद्या
  • नारी जन्मदात्री है। समाज का प्रत्येक भावी सदस्य उसकी गोद में पलकर संसार में खड़ा होता है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ईर्ष्या से नहीं, अध्यवसाय से हम ऊँचे उठ सकते हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    भगवान् सबके सृहृद हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ‘ईश्वर तेरी इच्छा पूर्ण हो’- जीवन का यही मूलमंत्र हो।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    मनुष्य का अपने आपसे बढ़कर न कोई शत्रु है, न मित्र।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    मानव जीवन की सर्वांगीण सुव्यवस्था के लिए पारिवारिक जीवन प्रथम सोपान है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ज्ञान कहीं से, किसी से, किसी मूल्य पर मिले, लेना अच्छा है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    हर दिन नया जन्म समझें, उसका सदुपयोग करें।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    विद्यालय राष्ट्र के जाग्रत् मन्दिर हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जहाँ सद्गुण रहते हैं, भगवान् वहीं निवास करते हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    परमात्मा अपने अनुग्रह आत्म- विश्वासी पर बरसाता है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    कुकर्मी से बढ़कर अभागा और कोई नहीं है; क्योंकि विपत्ति में उसका कोई साथी नहीं होता।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email