• सफल सार्थक जीवन
  • प्रगति की आकांक्षा
  • सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध
  • बाल निर्माण
  • मानवीय गरिमा
  • गायत्री और यज्ञ
  • भारतीय संस्कृति
  • धर्म और विज्ञान
  • समय का सदुपयोग
  • स्वस्थ जीवन
  • आध्यात्मिक चिंतन धारा
  • भाव संवेदना
  • शांतिकुंज -21 वीं सदी की गंगोत्री
  • कर्मफल और ईश्वर
  • स्वाध्याय और सदविचार
  • प्रेरक विचार
  • समाज निर्माण
  • युग निर्माण योजना
  • वेदो से दिव्य प्रेरणाये
  • शिक्षा और विद्या
  • जीवन उसी का सार्थक है जो सदा परोपकार में प्रवृत्त है।



    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ईमान और भगवान् ही मनुष्य के सच्चे मित्र हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    धर्म किन्हीं कर्मकाण्डों को नहीं, आत्मोत्कर्ष तथा लोकहित के प्रति अपने कर्तव्यों के पालन को कहते हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    पूत- सपूत वही कहलाता, जो स्वदेश का मान बढ़ाता।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    निरभिमानी धन्य है; क्योंकि उन्हीं के हृदय में ईश्वर का निवास होता है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जिस प्रकार पृथ्वी पर ताप और प्रकाश सूर्य से ही आता है, उसी प्रकार मनुष्य को आध्यात्मिक श्रेष्ठताएँ और विभूतियाँ परमात्मा से ही प्राप्त होती है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email


    आज के युग की सबसे बड़ी शक्ति शस्त्र नहीं, सद्विचार है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    बचपन सीखने की सबसे महत्त्वपूर्ण अवधि है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ईश्वर के सभी पुत्र समान हैं। वह अधिक प्यार केवल अधिक संयमी और अधिक सेवाभावी को कर सकता है, वंश के आधार पर कोई उसका प्रतिनिधि नहीं हो सकता।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    अध्यात्म का अर्थ है- अपने आपको सही करना।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ज्ञान आत्मा का नेत्र है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    दूसरों के उपकारों को स्मरण रखना सज्जनता का प्रथम चिह्न है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email