• सफल सार्थक जीवन
  • प्रगति की आकांक्षा
  • सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध
  • बाल निर्माण
  • मानवीय गरिमा
  • गायत्री और यज्ञ
  • भारतीय संस्कृति
  • धर्म और विज्ञान
  • समय का सदुपयोग
  • स्वस्थ जीवन
  • आध्यात्मिक चिंतन धारा
  • भाव संवेदना
  • शांतिकुंज -21 वीं सदी की गंगोत्री
  • कर्मफल और ईश्वर
  • स्वाध्याय और सदविचार
  • प्रेरक विचार
  • समाज निर्माण
  • युग निर्माण योजना
  • वेदो से दिव्य प्रेरणाये
  • शिक्षा और विद्या
  • समय की कद्र करो, एक मिनट भी फिजूल मत गँवाओ


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जीवन एक सुयोग है, उसका परिपूर्ण लाभ उठाया जाए।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ज्ञान की आराधना से ही मनुष्य तुच्छ से महान् बनता है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जो अपने बारे में तुच्छता के विचार रखता है वह सचमुच तुच्छ है और जिसका विश्वास है कि मैं महान हूँ, सचमुच वही महान् है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    अनेक प्रकार के योगों में एक गृहस्थ योग भी है। इसमें परमार्थ, सेवा, प्रेम, सहायता, त्याग, उदारता और बदला पाने की इच्छा से विमुखता- यही दृष्टिकोण प्रधान है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    शिक्षा को ही दहेज मानकर लड़कियों को अवश्य शिक्षित बनाएँ।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    नारी का गुण लज्जा, भय या संकोच नहीं;  बल्कि विनय, आत्म- श्रद्धा, निर्भयता, शुचिता और आत्म सौन्दर्य है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    मानव जीवन की सर्वांगीण सुव्यवस्था के लिए पारिवारिक जीवन प्रथम सोपान है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    किसी महान् उद्देश्य को न चलना उतनी लज्जा की बात नहीं होती, जितनी कि चलने के बाद कठिनाइयों के भय से पीछे हट जाना।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जीवन एक पाठशाला है, जिसमें अनुभवों के आधार पर हम शिक्षा प्राप्त करते हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    पूर्वजों की स्मृति में वृक्ष लगाना एक उच्च कोटि का श्राद्ध तर्पण है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    स्वर्ग और नरक मनुष्य के ज्ञान और अज्ञान का ही परिणाम है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email