• सफल सार्थक जीवन
  • प्रगति की आकांक्षा
  • सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध
  • बाल निर्माण
  • मानवीय गरिमा
  • गायत्री और यज्ञ
  • भारतीय संस्कृति
  • धर्म और विज्ञान
  • समय का सदुपयोग
  • स्वस्थ जीवन
  • आध्यात्मिक चिंतन धारा
  • भाव संवेदना
  • शांतिकुंज -21 वीं सदी की गंगोत्री
  • कर्मफल और ईश्वर
  • स्वाध्याय और सदविचार
  • प्रेरक विचार
  • समाज निर्माण
  • युग निर्माण योजना
  • वेदो से दिव्य प्रेरणाये
  • शिक्षा और विद्या
  • ज्ञानदान से बढ़कर आज की परिस्थितियों में और कोई दान नहीं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जो महापुरुष बनने के लिए प्रयत्नशील है, वे धन्य हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    परिवार संस्था ही नर -  रत्नों की खदान बन सकती है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    सतोगुणी भोजन से ही मन की सात्विकता स्थिर रहती है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    सद्बुद्धि अर्थात्- ऋतम्भरा प्रज्ञा, सत्- असत् का विवेक, निर्मलता, सात्विकता, संयम, शिष्टाचार, मृदु व्यवहार, उदारता, धैर्य, साहस, सत्यनिष्ठा आदि गुणों वाली मनोभूमिका। इसको प्राप्त करने से मानव जीवन स्वर्गीय सुख- शान्ति से परिपूर्ण हो जाता है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जाग्रत् आत्मा का लक्षण है- सत्यम्, शिवम् और सुन्दरम् की ओर उन्मुखता

    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    दुर्भाग्य छोटे हृदय को दमन कर अपने वश में कर लेता है, परन्तु विशाल हृदय उस पर विजय पाकर खुद उसे दबा देते हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    संसार भवबंधन नहीं है और न ही माया जाल है। वह सृष्टा की सर्वोत्तम कलाकृति है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    गृहस्थ एक तपोवन है, जिसमें संयम, सेवा, त्याग और सहिष्णुता की साधना करनी पड़ती है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    विवेक एवं ज्ञान भारतीय संस्कृति की आत्मा है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    आत्मा की पुकार अनसुनी न करें।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    निर्धनता मनुष्य के लिए बेइज्जती का कारण नहीं हो सकती। यदि उसके पास वह सम्पत्ति मौजूद हो, जिसे 'सदाचार्' कहते है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email