• सफल सार्थक जीवन
  • प्रगति की आकांक्षा
  • सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध
  • बाल निर्माण
  • मानवीय गरिमा
  • गायत्री और यज्ञ
  • भारतीय संस्कृति
  • धर्म और विज्ञान
  • समय का सदुपयोग
  • स्वस्थ जीवन
  • आध्यात्मिक चिंतन धारा
  • भाव संवेदना
  • शांतिकुंज -21 वीं सदी की गंगोत्री
  • कर्मफल और ईश्वर
  • स्वाध्याय और सदविचार
  • प्रेरक विचार
  • समाज निर्माण
  • युग निर्माण योजना
  • वेदो से दिव्य प्रेरणाये
  • शिक्षा और विद्या
  • हजार मन सोचने से एक मन करना अच्छा है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    प्रभु की राह पर बढ़ाया गया हर कदम अपनी आत्मिक प्रगति के लिए किया गया प्रयास है।



    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    हम बदलेंगे तो हमारी दुनिया भी बदलेगी।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    हमारा गौरव नारियों के शरीर सजाने में नहीं, बल्कि उन्हें शक्ति, सरस्वती और साध्वी बनाने में है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    भाग्य पर नहीं, चरित्र पर निर्भर रहो।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    साधना, स्वाध्याय, संयम और सेवा कार्यों में आलस्य और प्रमाद न होने दें।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    सतोगुणी भोजन से ही मन की सात्विकता स्थिर रहती है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    आदर्शों को ही देव कहते हैं। जो उत्कृष्ट आदर्शवादिता का परिपालन करता है, वही देव उपासक है।



    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    गृहस्थ धर्म जीवन का एक पुनीत, आवश्यक एवं उपयोगी अनुष्ठान है। आत्मोन्नति करने के लिए वह एक प्राकृतिक, स्वाभाविक और सर्वसुलभ योग है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    नारी का असली शृंगार, सादा जीवन- उच्च विचार।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    अशिक्षित होना बहुत बड़ा अभिशाप है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    साधना, स्वाध्याय, संयम एवं सेवा कार्यों में आलस्य और प्रमाद न बरतें।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email