• सफल सार्थक जीवन
  • प्रगति की आकांक्षा
  • सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध
  • बाल निर्माण
  • मानवीय गरिमा
  • गायत्री और यज्ञ
  • भारतीय संस्कृति
  • धर्म और विज्ञान
  • समय का सदुपयोग
  • स्वस्थ जीवन
  • आध्यात्मिक चिंतन धारा
  • भाव संवेदना
  • शांतिकुंज -21 वीं सदी की गंगोत्री
  • कर्मफल और ईश्वर
  • स्वाध्याय और सदविचार
  • प्रेरक विचार
  • समाज निर्माण
  • युग निर्माण योजना
  • वेदो से दिव्य प्रेरणाये
  • शिक्षा और विद्या
  • भगवान् शरीररहित है, किन्तु शरीरों में भगवान् की शक्ति अवतरित होती है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    वही काम करना ठीक है, जिसे करके पछताना न पड़े।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    कठिनाइयाँ जीवन की कसौटी हैं, जिनमें मनुष्य के व्यक्तित्व का रूप निखरता है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    हर परिस्थिति में प्रसन्न रहिए, निर्भय रहिए और कर्तव्य करते रहिए।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    धरती पर स्वर्ग अवतरित करने का प्रारम्भ सफाई और स्वच्छता से करें।

    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    सज्जनता ऐसी विधा है जो वचन से तो कम, किन्तु व्यवहार से अधिक परखी जाती है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जैसा मनुष्य स्वयं ही जैसा होगा, वैसा ही बाहर देखेगा।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    नारी शीलवती बनी रहे, किन्तु संकोची नहीं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    पाप अपने साथ रोग,शोक पतन ओर संकट भी लेकर आता है |


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जो शिक्षा मनुष्य को धूर्त, परावलम्बी और अहंकारी बनाती हो वह अशिक्षा से भी बुरी है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जो आस्तिक है, उसकी आशा कभी क्षीण नहीं हो सकती। वह केवल उज्ज्वल भविष्य पर ही विश्वास रख सकता है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    शुभ काम दिखावे के लिए न करें।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email