• सफल सार्थक जीवन
  • प्रगति की आकांक्षा
  • सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध
  • बाल निर्माण
  • मानवीय गरिमा
  • गायत्री और यज्ञ
  • भारतीय संस्कृति
  • धर्म और विज्ञान
  • समय का सदुपयोग
  • स्वस्थ जीवन
  • आध्यात्मिक चिंतन धारा
  • भाव संवेदना
  • शांतिकुंज -21 वीं सदी की गंगोत्री
  • कर्मफल और ईश्वर
  • स्वाध्याय और सदविचार
  • प्रेरक विचार
  • समाज निर्माण
  • युग निर्माण योजना
  • वेदो से दिव्य प्रेरणाये
  • शिक्षा और विद्या
  • चिन्तन से संबंधित विचार


    अश्लील चिन्तन और लोलुप दृष्टिकोण मानसिक व्यभिचार है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    अपने कार्यों में व्यवस्था, नियमितता, सुन्दरता, मनोयोग तथा जिम्मेदारी का ध्यान रखें।

    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    संसार को देखने से पहले अपने आपको भी देखें।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    चिता मरे को जलाती है, पर चिन्ता तो जीवित को ही जला डालती है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email


    अपने दोषों की ओर से अनजान रहने से बढ़कर प्रमाद और कोई नहीं हो सकता।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    मनन और चिंतन के बिना न आत्म- साक्षात्कार होता है और न ईश्वर ही मिलता है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    जो कुछ बच्चे को सिखलाते, उसे स्वयं कितना अपनाते।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    कुकर्मी से बढ़कर अभागा और कोई नहीं है; क्योंकि विपत्ति में उसका कोई साथी नहीं होता।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    दुष्टों का वैभव बढ़ते देखकर ललचाओं मत। वे गुब्बारे की तरह फूलते और बबूले की तरह फूटते रहते हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    पाप अपने साथ रोग,शोक पतन ओर संकट भी लेकर आता है |


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    दर्शन को बनाने वाली माँ का नाम है- मनीषा


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    योग्यता बढ़ाओ, पात्रता विकसित करो ताकि अभीष्ट वस्तुएँ सरलतापूर्वक मिल सकें। समुद्र के पास नदियाँ बिना बुलाये ही जा पहुँचती है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email



    Total Pages : [1] 2 3