• सफल सार्थक जीवन
  • प्रगति की आकांक्षा
  • सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध
  • बाल निर्माण
  • मानवीय गरिमा
  • गायत्री और यज्ञ
  • भारतीय संस्कृति
  • धर्म और विज्ञान
  • समय का सदुपयोग
  • स्वस्थ जीवन
  • आध्यात्मिक चिंतन धारा
  • भाव संवेदना
  • शांतिकुंज -21 वीं सदी की गंगोत्री
  • कर्मफल और ईश्वर
  • स्वाध्याय और सदविचार
  • प्रेरक विचार
  • समाज निर्माण
  • युग निर्माण योजना
  • वेदो से दिव्य प्रेरणाये
  • शिक्षा और विद्या
  • ईश्वर से संबंधित विचार


    आशावाद आस्तिकता है और निराशा नास्तिकता, आशावादी केवल ईश्वर से डरता है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    शुद्ध और निश्छल हृदय से तन्मयता की अवस्था में ही ईश्वरीय वाणी सुनी जा सकती है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    हृदय में सदैव शुद्ध भावना रखकर ही भगवान् का अनुभव किया जा सकता हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    भगवान् अनुभव से ही समझ में आते हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    भगवान् सज्जनों के लिए दीनबन्धु और दुष्टों के कालरूप हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ईश्वर सर्वव्यापक हैं। वे किसी का पक्षपात नहीं करते।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    आपत्तियाँ एक प्रकार की ईश्वरीय चेतावनियाँ हैं, जिनसे ठोकर खाकर मनुष्य सजग हो और गलत मार्ग से पीछे लौटे।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    भगवान् भावना को पहचानते हैं और उसी के आधार पर भक्त की आराधना का मूल्यांकन करते हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ईश्वर कैसा है और कहाँ है ? इस झंझट मे भले ही न पड़ो पर यह तो देखो कि तुम्हें किस लिये बनाया और किस तरह जीने के लिये कहा।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ईश्वर सर्वव्यापी दिव्य चेतना को कहते हैं, जो श्रेष्ठता के रूप में मानव अन्तःकरण को विकसित करती है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    भगवान् का प्रिय शरीर पाकर कोई ऐसा कार्य न करें, जो उन्हें अप्रिय है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    भगवान् एक विधि- व्यवस्था है, जो आग या बिजली की तरह मात्र सदुपयोग की शर्त पर अनुग्रह करता है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email



    Total Pages : [1] 2 3 4 5 6 7 8 9