• सफल सार्थक जीवन
  • प्रगति की आकांक्षा
  • सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध
  • बाल निर्माण
  • मानवीय गरिमा
  • गायत्री और यज्ञ
  • भारतीय संस्कृति
  • धर्म और विज्ञान
  • समय का सदुपयोग
  • स्वस्थ जीवन
  • आध्यात्मिक चिंतन धारा
  • भाव संवेदना
  • शांतिकुंज -21 वीं सदी की गंगोत्री
  • कर्मफल और ईश्वर
  • स्वाध्याय और सदविचार
  • प्रेरक विचार
  • समाज निर्माण
  • युग निर्माण योजना
  • वेदो से दिव्य प्रेरणाये
  • शिक्षा और विद्या
  • संबंध से संबंधित विचार


    आभूषणों के अलंकार से कहीं श्रेष्ठ है गुणों का अलंकार।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    संस्कारवान् माताएँ ही उन्नत समाज का निर्माण करती हैं।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    नारी परिवार का हृदय और प्राण है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    पुरुष- स्त्री वस्तुतः समान हैं। एक ही रथ के दो पहिए हैं। उसमें से न कोई छोटा है, न बड़ा।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    गृहस्थाश्रम समाज को सुनागरिक देने की खान है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    दाम्पत्य जीवन का उद्देश्य भोग नहीं, योग है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    नारी मूर्तिमान कामधेनु, अन्नपूर्णा, सिद्धि एवं ऋद्धि है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    गुण, कर्म एवं स्वभाव के परिष्कार की प्रयोगशाला है- परिवार।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    ज्ञान के क्षेत्र में नारी अनादिकाल से नर के समान है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    प्यार और सहकार से भरा- पूरा परिवार ही इस धरती का स्वर्ग होता है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    मानव समाज रूपी गाड़ी में स्त्री- पुरुष दोनों का समान महत्त्व है।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email

    प्रत्येक से प्यार करो, थोड़े में संतोष रखो और किसी को दुःख मत दो।


    By Pandit Shriram Sharma Acharya
    Share on Google+ Email



    Total Pages : [1] 2 3