Chintan Quotes

प्रगति की आकांक्षा


एक लगनशील व्यक्ति अपने अनेक साथी- सहचर पैदा कर सकता है। जुआरी, शराबी, व्यभिचारी जब अपने कई साथी पैदा कर सकते हैं तो प्रबुद्ध व्यक्ति वैसा क्यों नहीं कर सकते ? डाकुओं के छोटे- छोटे गिरोह जब एक बड़े क्षेत्र को आतंकित कर सकते...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

समाज निर्माण


एक लगनशील व्यक्ति अपने अनेक साथी- सहचर पैदा कर सकता है। जुआरी, शराबी, व्यभिचारी जब अपने कई साथी पैदा कर सकते हैं तो प्रबुद्ध व्यक्ति वैसा क्यों नहीं कर सकते ? डाकुओं के छोटे- छोटे गिरोह जब एक बड़े क्षेत्र को आतंकित कर सकते...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

युग निर्माण योजना


एक लगनशील व्यक्ति अपने अनेक साथी- सहचर पैदा कर सकता है। जुआरी, शराबी, व्यभिचारी जब अपने कई साथी पैदा कर सकते हैं तो प्रबुद्ध व्यक्ति वैसा क्यों नहीं कर सकते ? डाकुओं के छोटे- छोटे गिरोह जब एक बड़े क्षेत्र को आतंकित कर सकते...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

भारतीय संस्कृति


धर्मक्षेत्र को आज हेय इसलिए समझा जाता है कि उसमें ओछे और अवांछनीय व्यक्तित्व भरे पड़े हैं। उन्होंने धर्म को बदनाम किया है। इतनी उपयोगी एवं उत्कृष्ट आस्था के प्रति लोगों को नाक- भों सिकोड़ने पड़ रहे हैं। इस स्थिति को...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

धर्म और विज्ञान


धर्मक्षेत्र को आज हेय इसलिए समझा जाता है कि उसमें ओछे और अवांछनीय व्यक्तित्व भरे पड़े हैं। उन्होंने धर्म को बदनाम किया है। इतनी उपयोगी एवं उत्कृष्ट आस्था के प्रति लोगों को नाक- भों सिकोड़ने पड़ रहे हैं। इस स्थिति को...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

मानवीय गरिमा


जमाना खराब है, लोग बुरे हैं, कोई हमारी सुनता नहीं आदि शब्दों के पीछे कार्यकर्ता की निराशा, उदासीनता और लगन की कमी की ही झाँकी मिलती है। लगनशील व्यक्ति हर स्थिति में हर काम कर सकता है। बातों का युग अब बहुत...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

प्रेरक विचार


जमाना खराब है, लोग बुरे हैं, कोई हमारी सुनता नहीं आदि शब्दों के पीछे कार्यकर्ता की निराशा, उदासीनता और लगन की कमी की ही झाँकी मिलती है। लगनशील व्यक्ति हर स्थिति में हर काम कर सकता है। बातों का युग अब बहुत...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

युग निर्माण योजना


जमाना खराब है, लोग बुरे हैं, कोई हमारी सुनता नहीं आदि शब्दों के पीछे कार्यकर्ता की निराशा, उदासीनता और लगन की कमी की ही झाँकी मिलती है। लगनशील व्यक्ति हर स्थिति में हर काम कर सकता है। बातों का युग अब बहुत...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

मानवीय गरिमा


योजनाएँ कितनी ही आकर्षक क्यों न हों उनको आगे धकेलने वाले लोग जब आदर्शहीन, स्वार्थी और संकीर्ण दृष्टिकोण के हों तो उनकी दृष्टि उस योजना से अधिकाधिक अपना लाभ लेने की होगी। इस विचित्रता में कोई योजना सफल नहीं हो सकती। कोई...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

युग निर्माण योजना


योजनाएँ कितनी ही आकर्षक क्यों न हों उनको आगे धकेलने वाले लोग जब आदर्शहीन, स्वार्थी और संकीर्ण दृष्टिकोण के हों तो उनकी दृष्टि उस योजना से अधिकाधिक अपना लाभ लेने की होगी। इस विचित्रता में कोई योजना सफल नहीं हो सकती। कोई...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

युग निर्माण योजना


वर्तमान विचार क्रान्ति महाकाल का तीसरा नेत्र ही है। जो प्रचण्ड दावानल का रूप धारण कर अज्ञान युग की सारी विडम्बनाओं को भस्मसात् कर स्वस्थ और स्वच्छ दृष्टिकोण प्रदान करेगी। इन उपलब्धियों के बाद विश्व शान्ति के मार्ग में कोई कठिनाई...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

युग निर्माण योजना


अपने परिवार में एक से एक बढ़कर उत्कृष्ट स्तर की आत्माएँ इन दिनों मौजूद हैं। वे जन्मी भी इसी प्रयोजन के लिए हैं। ऐसे महान् अवसरों पर उत्कृष्टता संपन्न सुसंस्कारी आत्माएँ ही बड़ी भूमिकाएँ प्रस्तुत करने का साहस करती हैँ। हममें...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

आध्यात्मिक चिंतन धारा


जिसके भीतर जितनी ईश्वरीय प्रयोजनों में सहयोगी बनने की तड़फन है, वह उतना ही दिव्य आत्मा है। तड़फन पानी के स्रोतों की तरह है जो पहाड़ जैसी कठोरता को चीरकर बाहर निकल आती है। साधारण परिस्थिति के लोग भी उपयुग...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

कर्मफल और ईश्वर


जिसके भीतर जितनी ईश्वरीय प्रयोजनों में सहयोगी बनने की तड़फन है, वह उतना ही दिव्य आत्मा है। तड़फन पानी के स्रोतों की तरह है जो पहाड़ जैसी कठोरता को चीरकर बाहर निकल आती है। साधारण परिस्थिति के लोग भी उपयुग...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

सुव्यवस्थित पारिवारिक संबंध


इतिहास अपनी पुनरावृत्ति कर रहा है। अपना परिवार एक ईश्वरीय महान् प्रयोजन की पूर्ति में सहायक बनने के लिए पुनः इकट्ठा हुआ है। अच्छा हो हम अपने को पहचानें और अतीत काल की सूखी स्मृतियों को फिर हरी कर लें। निश्चित रूप...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

युग निर्माण योजना


इतिहास अपनी पुनरावृत्ति कर रहा है। अपना परिवार एक ईश्वरीय महान् प्रयोजन की पूर्ति में सहायक बनने के लिए पुनः इकट्ठा हुआ है। अच्छा हो हम अपने को पहचानें और अतीत काल की सूखी स्मृतियों को फिर हरी कर लें। निश्चित रूप...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

आध्यात्मिक चिंतन धारा


मुद्दतों को देव परम्पराएँ अवरुद्ध हुई पड़ी हैं। अब हमें अपना सारा साहस समेटकर तृष्णा और वासना के कीचड़ से बाहर निकलना होगा और वाचालता एवं विडम्बना से नहीं, अपनी कृतियों से अपनी उत्कृष्टता का प्रमाण देना होगा। हमारा उदाहरण ही दूसरे...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

कर्मफल और ईश्वर


नर पशुओं और नर पिशाचों का बाहुल्य जब कभी भी संसार में होगा तो विपत्तियाँ आयेंगी और अगणित प्रकार की विभीषिकाएँ उत्पन्न होगी। यह अभिवृद्धि जब चिन्ताजनक स्तर तक पहुँच जाती है तो ईश्वर की इस परम प्रिय सृष्टि के लिए...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

युग निर्माण योजना


देवत्व का जागरण एवं पोषण करने की तैयारी ही वह प्रयत्न है जिसके फलस्वरूप वर्तमान असुर अंधकार का निराकरण होगा। परिपुष्ट देवत्व से वह व्यापक प्रभाव उत्पन्न होगा जिससे प्रभावित होकर लोग पशुता और पिशाच वृत्ति का दुष्परिणाम समझ सकने योग्य...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

बाल निर्माण


आज की परिस्थिति में अधिक बच्चे उत्पन्न करना भले ही आवश्यक न रहा हो, पर विचार संतान का उत्पन्न् करना निश्चय ही एक श्रेष्ठ परमार्थ है। सद्विचारों और सत्कर्मों की अभिवृद्धि के उद्देश्य से बनाई गई युग निर्माण योजना की वंश...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

युग निर्माण योजना


आज की परिस्थिति में अधिक बच्चे उत्पन्न करना भले ही आवश्यक न रहा हो, पर विचार संतान का उत्पन्न् करना निश्चय ही एक श्रेष्ठ परमार्थ है। सद्विचारों और सत्कर्मों की अभिवृद्धि के उद्देश्य से बनाई गई युग निर्माण योजना की वंश...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

आध्यात्मिक चिंतन धारा


प्रवचनों और लेखों की सीमित शक्ति से युग निर्माण का कार्य संपन्न हो सकना संभव नहीं, यह तो तभी होगा जब हम अपना निज का जीवन एक विशेष ढाँचे में ढालकर लोगों को दिखावेंगे। प्राचीनकाल के सभी धर्मोपदेशकों ने यही...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

युग निर्माण योजना


प्रवचनों और लेखों की सीमित शक्ति से युग निर्माण का कार्य संपन्न हो सकना संभव नहीं, यह तो तभी होगा जब हम अपना निज का जीवन एक विशेष ढाँचे में ढालकर लोगों को दिखावेंगे। प्राचीनकाल के सभी धर्मोपदेशकों ने यही...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

समाज निर्माण


युग परिवर्तन की संभावना हमारी कल्पना नहीं, समय की प्रेरणा है, क्योंकि इसके बिना न व्यक्ति का कल्याण है और न विश्व का उद्धार संभव है। व्यक्ति महान् बने, समाज महान् बने तथा सारी वसुधा महानता से ओतप्रोत हो, यह मिशन लेकर...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

युग निर्माण योजना


युग परिवर्तन की संभावना हमारी कल्पना नहीं, समय की प्रेरणा है, क्योंकि इसके बिना न व्यक्ति का कल्याण है और न विश्व का उद्धार संभव है। व्यक्ति महान् बने, समाज महान् बने तथा सारी वसुधा महानता से ओतप्रोत हो, यह मिशन लेकर...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

स्वाध्याय और सदविचार


स्वच्छ मन का आंदोलन व्यक्ति की आंतरिक दुर्बलता के विरुद्ध एक महान् अभियान है। कुविचारों की हानियाँ, स्वार्थपरता के दुष्परिणाम अभी लोगों की आँखों में नहीं है। आज हर आदमी यही सोचता है कि अनैतिक रहने में ही उसका भौतिक लाभ...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

प्रेरक विचार


स्वच्छ मन का आंदोलन व्यक्ति की आंतरिक दुर्बलता के विरुद्ध एक महान् अभियान है। कुविचारों की हानियाँ, स्वार्थपरता के दुष्परिणाम अभी लोगों की आँखों में नहीं है। आज हर आदमी यही सोचता है कि अनैतिक रहने में ही उसका भौतिक लाभ...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

युग निर्माण योजना


अखण्ड ज्योति का प्रत्येक सदस्य अब एक धार्मिक पत्रिका का पाठक मात्र न रहेगा, वरन् वह एक लोकशिक्षक के रूप में अपना उत्तरदायित्व अनुभव करें। युग निर्माण के लिए आवश्यक प्रकाश अखण्ड ज्योति प्रस्तुत करेगी, वह एक बिजलीघर के रूप में...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

युग निर्माण योजना


युग निर्माण का महान् कार्य आज की प्रचण्ड आवश्यकता है। जिस खंडहर स्थिति में हमारे शरीर, मन और समाज के भग्नावशेष पड़े हैं, उन्हें उसी दशा में पड़े रहने देने की उपेक्षा जिन्हें संतोष दे सकती हैं उन्हें जीवित मृत ही कहना...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

आध्यात्मिक चिंतन धारा


हमारी चिट्ठी, वाणी, प्रेरणा, भावना और आकाँक्षा का मूर्त रूप अखण्ड ज्योति ही है। इसे भावना और ध्यानपूर्वक पढ़ना चाहिए और इन पन्नों के साथ लिपटी हुई प्रेरणाओं को मनन और चिन्तन पूर्वक हृदयंगम करना चाहिए। हमारी आत्मा से अपनी आत्मा को...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img