समय रूपी अमूल्य उपहार का एक क्षण भी आलस्य और प्रमाद में नष्ट न करें।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

आज का नया दिवस हमारे लिए एक अनमोल अवसर है।!


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

अन्तःकरण की सुन्दरता साधना से बढ़ती है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

Human values are most valuable. It is the main duty of every conscientious man to protect it.


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

రంధ్రాన్వేషకునికి మనుషులంతా దురాచారులుగా కనపిస్తారు.

By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

Those who have achieved harmony in their thoughts, words, and actions attain true awakening.


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

कर्तव्य पालन में ही जीवन का सच्चा मूल्य है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

परमेश्वर जिस पर भी प्रसन्न होते हैं, उन्हें वे अधिक विचारशील, सद्भावना संपन्न और ज्ञानपरायण बनाते हैं तथा ज्ञानयोग में संलग्न होने की प्रेरणा देते हैं।

By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

भगवान् जिसे सच्चे मन से प्यार करते हैं, उसे अग्नि परीक्षाओं में होकर गुजारते हैं।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

उपासना अर्थात् आदर्शों के समुच्चय परब्रह्म के साथ समीपता स्थापित करना, उनकी प्रेरणाएँ स्थापित करना।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

मनोविकारों से परेशान, दुःखी, चिंतित मनुष्य के लिए उनके दुःख- दर्द के समय श्रेष्ठ पुस्तकें ही सहारा है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email

कर्मणि त्यज्यते प्रज्ञा।
अर्थात्- कर्म में ही मनुष्यों की प्रज्ञा की अभिव्यक्ति होती है।


By Pandit Shriram Sharma Acharya
Share on Google+ Email