Share on Google+ Email
नारी भावना प्रधान है। उसकी भावना को चोट न लगने पाये।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment