Share on Google+ Email
नारी मानव सृष्टि की वह धारा है, जो सर्वदा शीतल होकर बहती है और गर्म होना जानती ही नहीं।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment