Share on Google+ Email
पुरुष- स्त्री वस्तुतः समान हैं। एक ही रथ के दो पहिए हैं। उसमें से न कोई छोटा है, न बड़ा।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment