Share on Google+ Email
हमारा गौरव नारियों के शरीर सजाने में नहीं, बल्कि उन्हें शक्ति, सरस्वती और साध्वी बनाने में है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment