Share on Google+ Email
निर्मल हृदय में ही भगवान का बोध होता है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment