Share on Google+ Email
भगवान् सज्जनों के लिए दीनबन्धु और दुष्टों के लिए काल रूप हैं।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment