Share on Google+ Email
भगवान् का प्रिय शरीर पाकर कोई ऐसा कार्य न करें, जो उन्हें अप्रिय है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment