Share on Google+ Email
ईश्वर सर्वव्यापी दिव्य चेतना को कहते हैं, जो श्रेष्ठता के रूप में मानव अन्तःकरण को विकसित करती है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment