Share on Google+ Email
जीवन- मरण भगवान् के हाथ में होता है। वह किसी के बुलाए आता नहीं और किसी के टाले टलता नहीं।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment