Share on Google+ Email
प्राणिमात्र के हित की दृष्टि से उदारता, सेवा, सहानुभूति, मधुरता का व्यवहार करना ही परमार्थ का सार है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment