Share on Google+ Email
आदर्शों को ही देव कहते हैं। जो उत्कृष्ट आदर्शवादिता का परिपालन करता है, वही देव उपासक है।



Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment