Share on Google+ Email
धर्म किन्हीं कर्मकाण्डों को नहीं, आत्मोत्कर्ष तथा लोकहित के प्रति अपने कर्तव्यों के पालन को कहते हैं।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment