Share on Google+ Email
जो आदर्श जीवन बनाने और बिताने के लिए जितना इच्छुक, आतुर एवं प्रयत्नशील हैं, वह उतने ही अंशों में आस्तिक है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment