Share on Google+ Email
संयम विहीन जीवन शुष्क एवं पशु के समान निःसार है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment