Share on Google+ Email
सांसारिक वासना को तुम भयानक रोग की तरह समझो, संयम को औषधि की तरह समझो। वासनारहित जीवन ही स्वस्थ जीवन है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment