Share on Google+ Email
प्राचीनकाल में जीवन का आधार संयम था, पर आजकल उसका आधार भोग- विलास है। इसका फल यह हुआ है कि हम लोग बलहीन होकर, कायर हो गये है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment