Share on Google+ Email
शस्त्र युद्ध में विजय प्राप्त करने की अपेक्षा आत्म- जय करने में अधिक वीरता है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment