Share on Google+ Email
हँसते- हँसाते रहो, पर यह कार्य व्यंग्य- उपहास के आधार पर मत करो।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment