Share on Google+ Email
व्यसनों के वश में होकर अपनी महत्ता को खो बैठे वह मूर्ख है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment