Share on Google+ Email
साधना, स्वाध्याय, संयम और सेवा कार्यों में आलस्य और प्रमाद न होने दें।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment