Share on Google+ Email
सद्भावनाओं से खाली हृदय श्मशान की तरह सूना और भयंकर बना रहता है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment