Share on Google+ Email
दूसरों की बुराई, दोष दर्शन अपने ही विकृत आन्तरिक जीवन का दर्शन है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment