Share on Google+ Email
मनुष्य के मित्र और शत्रु उनके ही अपने भाव, विचार और दृष्टिकोण ही होता है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment