Share on Google+ Email
गृहस्थ एक तपोवन है, जिसमें संयम, सेवा और सहिष्णुता की साधना करनी पड़ती है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment