Share on Google+ Email
जो टूटे को बनाना और रूठे को मनाना जानता है, वही बुद्धिमान् है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment