Share on Google+ Email
गुण, कर्म और स्वभाव का परिष्कार ही अपनी सच्ची सेवा है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment