Share on Google+ Email
सदैव धैर्य, अनुद्वेग, साहस, प्रसन्नता, दृढ़ता और समता की संतुलित स्थिति बनाए रखें।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment