Share on Google+ Email
विद्याध्ययन एक तप है, जिसकी तेज से विद्यार्थी तपकर कुन्दन बनता है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment