Share on Google+ Email
जो विद्या तुम्हें अहंकार, आलस्य और अनीति की ओर धकेले उसे प्राप्त करने की अपेक्षा अशिक्षित रहना अच्छा।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment