Share on Google+ Email
वह स्थान मंदिर है, जहाँ पुस्तकों के रूप में मूक;   किन्तु ज्ञान की चेतनायुक्त देवता निवास करते हैं।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment