Share on Google+ Email
मनुष्य एक अनगढ़ पत्थर है जिसे शिक्षा की छैनी एवं हथौड़ी से सुन्दर आकृति प्रदान की जाती है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment
prateek ladla
2015-08-06 09:22:34
जी यह सही कहा है