Share on Google+ Email
झगड़ने वाले दुश्मनों से उतना डरने की आवश्यकता नहीं, जितना मित्र बन कर घात करने वालों से।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment