Share on Google+ Email
दुनिया की निन्दा स्तुति की परवाह मत करो। हृदय टटोलो और उसकी आवाज सुनो।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment